aaina

...sach dikhta hai ....[.kahani,lekh.haas-parihaas ,geet/kavitaaye

182 Posts

303 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2326 postid : 1135054

मंदिर -प्रवेश वर्जित है ?

Posted On: 27 Jan, 2016 लोकल टिकेट,social issues,Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आधुनिक युग में महाराष्ट्र के शनिमंदिर मॅ पूजा-अर्चना हेतु नारियो को रोका जा रहा है ,परम्परा के नाम पर ! आश्चर्य ! जगत में राम-रहीम ,कृष्ण ,बुद्ध-महावीर सरीखे भगवान -ईश्वर कहे जाने वाले प्रथम पुरुष को भी ९ माह प्रसव पीड़ा सहने के बाद जन्म देने वाली कोई स्त्री है – धर्म शास्त्रो के अनुसार पुरुष यदि श्रेष्ठ है तो स्त्री पृकृति की श्रेष्ठतम कृति है -जो मानव जगत की उत्पत्ति का कारन है . फिर परंपरा-प्रथा के नाम पर किसी मंदिर में स्त्रियों को पूजा -अर्चना करने से वर्जित किये जाने को कैसे उचित ठहराया जा सकता है ? क्या यह नारियो का अपमान-तिरस्कार नहीं है ? सैकड़ों वर्ष पुरानी परम्परा का वर्तमान युग में निर्वाह करना नितांत मूर्खता है . धर्म-पंथ -रीति रिवाजों को अब विज्ञान सम्मत होना चाहिए . सभ्य होते समाज का यही लछन है -अब इंटरनेट के ज़माने में पोस्टकार्ड का प्रयोग बेवकूफी ही कहा जायेगा .
जबकि ६७वे गणतंत्र महोत्सव का जश्न चल ही रहा है तो स्त्रियों के अधिकारों पर निर्णय लेना उचित है . महिला अधिकार -आरछण अधिनियम को मूर्तरूप दिए जाने का समय है ..भारतमाता के रूप में प्रतिष्ठित स्त्रियों को भी कुरीतियों -प्रथाओं की बेड़ियों से मुक्त कीजिये. उसे भी पूर्ण स्वातंत्र्य का अधिकार है .
पूर्ण स्वातन्तृ के लिये देश की नारी को मुक्ति -प्रतिष्ठा चाहिये ! नये युग का आविर्भाव !!! राजनीति -शासन -व्यवस्था मे पुरुष अहन्कार कब तक ? जगतजननी को प्रतिष्ठा मिलनी ही चाहिये !!



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran